मोरपंख के चमत्कारी लाभ

भारतीयों में मान्यता है की घर में मोरपंख रखने से अशुभ घटनाये होना बंद हो जाता है दुरात्माये पास नहीं आती है इससे वास्तु और ज्योतिषी शास्त्र में बहुत उपयोगी बताया गया है जैसा की हम सब जानते है भगवान श्री कृष्ण मोरपंख को अपने मस्तिष्क पर स्थान दिया था उनके मुकुट को इसीलये मोरमुकुट कहा जाता था ज्योतिषी शास्त्र और वास्तु शास्त्र इसेबहुत उपयोगी माना गया है मोरपंख का आयुर्वेद में बीमारियों के लिए चमत्कारी उपयोग माना गया है जैसे की लकवा, टी. बी. दमा, नज़ला , बांझपन आदि में उपयोग में लिया गया है यहाँ तक की जापान और थाईलैंड में भी इसे पूजनीय माना गया है
सावधानी पूर्वक इसका नियमित उपयोग भी असंभव कार्य भी सम्भव होने लगते है निम्न प्रोयोगो द्वारा आप भी मोरपंख का लाभ उठा सकते है जैसे की :-

१. मोरपंख को दक्षिण पूर्व कोण में लगाने से धन की व्रद्धि होती है
२.मोर का पंक किसी भी राधा कृष्ण की मूर्ति में ४० दिन तक स्थप्तित करे और प्रतिदिन माकन मिश्री का भोग सायकल को लगाए, फिर उसी मोरपंख की ४१ वे दिन पूजन करके अपने घर में लाये और अपने लॉकर का तिजोरी वाले स्थान पर रखे आप खुद हे महसूस करेंगे की आपके घर में धन की कमी धीरे धीरे दूर हो रही है
३. अगर आपका बच्चा बहुत ज़िद्दी हो तो मोरपंख को छत के पंखे पर लगादे , पंखा चलने पर आपके बच्चे को इसकी आवाज़ भी अच्छी लगेगी और इससे बच्चे की हट करने की ज़िद्द भी धीरे धीरे दूर हो जायगी

४. अगर आपका नवजात बच्चा रात को रोता है यह बहुत ज्यादा डरता है तो एक ताबिज में मोरपंख डाल कर पहना देने से बालक डरता नहीं है और नज़र दोष से भी बचता है , अगर शत्रु बहुत ज्यादा परेशान कर रहा है तो मोर के पंख पर हनुमान जी मस्तक की सिंदूर से मंगल वॉर यह शनिवार को बजरंग बलि का नाम लिखे , और फिर इसे अपने घर के मंदिर में रखे फिर सुबह प्रातः इससे बहते पानी में बहा देने से शत्रु , शत्रुता छोड़ कर मित्रता पूर्वक व्यवहार करेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *